Wednesday , August 10 2022
Breaking News

फैकल्टी को समृद्ध बनाने के लिए पीटीयू की अपने कॉलेजों को वित्तीय सहायता की पेशकश

Spread the News

जालंधर/कपूरथला, (PNL) : आई.के.गुजराल पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी (आई.के.जी पी.टी.यू) ने फैकल्टी (टीचर्स) को विश्व स्तर (ग्लोबल लेवल) पर पढ़ाने की प्रक्रिया के समानांतर लाने एवं उन्हें समृद्ध बनाने के लिए अपने से एफिलिएटेड कालेजों को वित्तीय सहायता की पेशकश की है! यूनिवर्सिटी ने यह पेशकश आल इंडिया कॉउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (ए.आई.सी.टी ई) की तर्ज पर की है! इस वित्तीय सहायता से कालेज अपने यहाँ फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम (एफ.डी.पीज) आयोजित करेंगे! यूनिवर्सिटी के कुलपति व तकनीकी शिक्षा एवं उद्योगिक सिखलाई विभाग पंजाब के प्रमुख सचिव श्री राहुल भंडारी, आई.ए.एस, ने इस पहल को यूनिवर्सिटी से जुड़े प्रदेश के सैंकड़ों कालेजों के लिए वरदान बताया है! उन्होंने कहा कि फंड्स की कमी के कारन कई कालेज अपनी फैकल्टी को अपग्रेड करने के लिए विशेष प्रोग्राम आयोजित नहीं कर पा रहे थे! उच्च स्तर के ट्रेनर, जो कि देश-विदेश के उच्च शिक्षण संस्थानों से हों, को वे ट्रेनिंग के लिए आमंत्रित नहीं कर पा रहे थे! इस वित्तीय सहायता से इन कालेजों को अपनी फैकल्टी को समृद्ध एवं सक्षम बनाने में मदद मिलेगी! यूनिवर्सिटी के इस प्रस्ताव को हाल ही में हुई कॉलेज डेवलपमेंट कॉउन्सिल (सी.डी.सी) की पहली मीटिंग में रखा गया था! श्री राहुल भंडारी बतौर कॉउन्सिल चेयरमैन उपस्थित रहे! उन्होंने कहा कि पंजाब के कालेजों की फैकल्टी को विश्वस्तरीय पढ़ने एवं पढ़ाने के तरीकों में बदलाव के पूरक लाना यूनिवर्सिटी की जिम्मेदारी है!

श्री भंडारी ने बताया कि उद्योग जगत की वैश्विक प्रवृत्तियों एवं जरूरतों का सामना करने के लिए उच्च शिक्षा प्रणाली एक परिवर्तनकारी दौर से गुजर रही है! उद्योग के लिए एक प्रशिक्षित कर्मी (मैनपावर) की आवश्यकता होती है और यही दक्ष कर्मी देश के औद्योगिक विकास में योगदान करने में सक्षम हो सकता है। योग्य एवं प्रशिक्षित कर्मी तैयार करने के लिए बेहद गुणी, निपुन एवं दक्ष शिक्षकों की आवश्यकता सबसे अहम है। इसी पर ध्यान देते हुए यूनिवर्सिटी ने यह फैंसला लिया है, जिसमें प्रति कालेज साढ़े तीन लाख तक की वित्तीय सहायता एफ.डी.पीज के लिए दी जाएगी! एआईसीटीई की पालिसी के मुताबिक कॉलेजों की फैकल्टी के लिए दो सप्ताह के फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम (एफडीपी) का आयोजन करवाने को लगभग सात लाख रूपए की ग्रांट दी जाती है! इसी क्रम में यूनिवर्सिटी आधे (3.5 लाख) रूपए देगी जबकि शेष कालेज खर्च करेगा!

 

 

सी.डी.सी मीटिंग को यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार डा. एस.के.मिश्रा ने बतौर सदस्य आगे बढ़ाया, जबकि डायरेक्टर कॉलेज डेवलपमेंट डा. बालकर सिंह ने मीटिंग के एजेंडा को आगे बढ़ाया! विभिन्न एजेंडा में नए कोर्सेस की शुरुआत, एन.बी.ए/नैक वर्कशॉप, विदेशी छात्रों के विशेष कोटा प्रबंधन जैसे मुद्दे खास रहे! रजिस्ट्रार डा.एस.के मिश्रा ने मीटिंग में आये विभिन्न कालेजों के प्रिंसिपल्स को यूनिवर्सिटी ने नए अकादमिक सत्र में बेहतर कार्य करने, क्वालिटी एडमिशंस पर फोकस करने के साथ-साथ एडमिशन के लिए यूनिवर्सिटी की तरफ से किये जा रहे विशेष कार्यों से अवगत करवाया।

About punjab news live (PNL)

Check Also

बिहार में जेडीयू-बीजेपी का गठबंधन टूटा, लालू यादव की बेटी ने लिखा-“राजतिलक की करो तैयारी, आ रहे हैं लालटेन धारी”

Spread the Newsपटना, (PNL) : बिहार में आखिरकार बीजेपी-जेडीयू गठबंधन टूट गया है। जानकारी के मुताबिक …

error: Content is protected !!