Sunday , April 18 2021
Breaking News



लॉकडाउन के डर से एक बार फिर बड़ी संख्या में अपने घरों को लौट रहे प्रवासी मजदूर, देखें तस्वीरें

नई दिल्ली, (PNL) : देश एक बार फिर कोरोना वायरस संकट के उसी दौर में जाता दिख रहा है, जहां पिछले साल था. एक तरफ कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं, शहरों में फिर से लॉकडाउन का डर सता रहा है. तो अब फिर से प्रवासी मज़दूरों के अपने घर वापस जाने की खबरें भी आ रही हैं. लगातार बढ़ रही सख्तियों के बीच लॉकडाउन की आहट सिर पर है और दिल्ली, पुणे समेत अन्य इलाकों से प्रवासी मजदूर अपने घर वापस लौटने लगे हैं.

दिल्ली के आनंद विहार टर्मिनल पर बीते दिन बड़ी संख्या में प्रवासी मज़दूर घर जाते हुए दिखे. बिहार के कुछ मज़दूरों का कहना है कि पिछली बार लॉकडाउन में वो..यहां फंसे रह गए थे, ऐसे में अब फिर से ऐसी स्थिति बनती है तो वो यहां फंसना नहीं चाहते हैं. इसलिए पहले ही अपने घर जा रहे हैं. आपको बता दें कि कोरोना संकट के कारण दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है. कई तरह की अन्य पाबंदियां भी लग चुकी हैं. फिर भी कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं. ऐसे में प्रवासी मज़दूरों के बीच फिर से लॉकडाउन का डर सता रहा है. 

दिल्ली से दूर महाराष्ट्र के पुणे में भी कुछ ऐसा ही नज़ारा देखने को मिल रहा है. जहां प्रवासी मज़दूर बड़ी संख्या में अपने शहरों, गांवों की तरफ लौट रहे है. पुणे के रेलवे स्टेशन पर भारी भीड़ देखी गई. रेलवे की ओर से कहा गया है कि हम यहां नियमों का पालन कर रहे हैं, अधिक संख्या है लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग के पैमाने पर खरा उतरा जा रहा है. 

गौरतलब है कि दिल्ली, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, यूपी जैसे कई राज्यों ने अपने शहरों में नाइट कर्फ्यू तो लागू कर दिया है. महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश में तो वीकेंड लॉकडाउन भी चल रहा है. बीते दिन छत्तीसगढ़ के रायपुर में संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया. याद हो कि बीते साल जब अचानक लॉकडाउन का ऐलान कर दिया गया था, तब लाखों मजदूर शहरों में फंस गए थे. जिसके बाद सड़कों पर प्रवासी मजदूरों की भारी भीड़ अपने गांवों को लौटते हुए दिखाई दी थी. 

About punjab news live (PNL)

Check Also

केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ पोखरियाल द्वारा LPU में टॉप ग्लोबल विश्वविद्यालयों की मैनेजमेंट पर आधारित अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का संबोधन

जालंधर, (PNL) : भारत के शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल  निशंक ने आज लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (एलपीयू) में शीर्ष वैश्विकविश्वविद्यालयों की मैनेजमेंट पर आधारित  अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनको संबोधित किया। यह अवसर था  एलपीयू द्वारा अपने परिसर मेंआयोजित पोस्ट-कोविड वर्ल्ड में अंतर्राष्ट्रीय उच्च शिक्षा के अवसरोंपर एक दिवसीय वर्चुअल  सम्मेलन का । माननीय शिक्षा मंत्री डॉपोखरियाल  सम्मेलन के मुख्य अतिथि थे। सम्मेलन के दौरान, संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और साइप्रस सहित टॉप देशों के विश्वविद्यालयों से प्रोचांसलर , वाईस चांसलर , निदेशक आदि के रैंक के 12 वरिष्ठशिक्षाविदों ने  पैनलिस्ट के रूप में भाग लिया । दुनिया के शीर्ष 9 विश्वविद्यालयों  पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय (यूएसए), नॉटिंघमट्रेंट विश्वविद्यालय (यूके), न्यूकैसल विश्वविद्यालय और कर्टिनविश्वविद्यालय (ऑस्ट्रेलिया), लेक हेड यूनिवर्सिटी (कनाडा) केवरिष्ठ प्रबंधन और ऑसट्रेड की डायरेक्टर ने  सम्मेलन में भागलिया। कांफ्रेंस में सभी विशिष्ट शिक्षाविदों को बधाई और सार्थक संवादके लिए शुभकामनाएं देते हुए  शिक्षा मंत्री ने साझा किया: “मुझेबहुत खुशी है कि एलपीयू ने दुनिया के वरिष्ठ नीति निर्धारकों केसाथ इस वार्ता का आयोजन किया है, और शिक्षा केअंतर्राष्ट्रीयकरण में इतना अधिक काम कर रहा है। वास्तव में, अंतर्राष्ट्रीयकरण एक विश्वविद्यालय की वृद्धि और विकास औरदेश में इसके योगदान के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण तत्व है। मैंएलपीयू को उन अग्रणी विश्वविद्यालयों में से एक के रूप में मानताहूँ , जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीयकरण को पूर्ण रूप से अपनाया है। ” भारत की नई शिक्षा नीति -2020 ( एनईपी- 2020) के बारे में बातकरते हुए, डॉ निशंक ने कहा : “भारत ने करोड़ों भारतीय विद्यार्थियोंके लिए अपनी नई शिक्षा नीति को अपडेट किया है, जो 1,000 विश्वविद्यालयों और 45,000 डिग्री कॉलेजों में अध्ययन कर रहे हैं | उन सब की  आकांक्षा की झलक इस नीति  में दिखाई देती है। यहनीति विद्यार्थियों , शिक्षकों, वैज्ञानिकों, गैर-सरकारी संगठनों सेलेकर सभी हितधारकों के परामर्श से बनाई गई है। यह सबसे बड़ीइनोवेशन है, जिसमें सभी की भागीदारी है। यह देश के लिए, देशके द्वारा और देश के लिए देश की नीति है और हम देश के प्रत्येकविद्यार्थी  के लिए अच्छे और उत्कृष्ट भविष्य के भागीदार हैं। हमवसुधैव कुटुम्बकम (दुनिया एक परिवार है) के वाक्यांश परविश्वास करते हैं, इसीलिए हम पूरी दुनिया की चिंता करते हैं। “ डॉ निशंक ने कहा: “आज अंतर्राष्ट्रीयकरण बहुत बड़ी चीज है, औरएनईपी- 2020  ने दुनिया  भर के विश्वविद्यालयों के लिए भारत मेंकैंपस खोलना संभव बना दिया है। मैं आप सभी को भारत में अपनेकैंपस  खोलने के लिए आमंत्रित करता हूं, और इस तरह भारतीयविश्वविद्यालयों के साथ अधिक संयुक्त अनुसंधान परियोजनाओंपर काम करें । ” …

error: Content is protected !!