Monday , January 18 2021
Breaking News










पंजाब में तीन दिन बाद हो सकता है ब्लैकआउट, केबिनेट मंत्री धर्मसोत ने भी किया इशारा, पढ़ें

चंडीगढ़, (PNL) : किसानों के आंदोलन के कारण पंजाब में तीन दिन बाद ब्लैकआउट हो सकता है। केबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत ने शुक्रवार को इस संबंधी इशारा किया है।
उन्होंने बताया कि राज्य के निजी और सरकारी थर्मल प्लांटों के पास केवल दो से तीन दिन का कोयला ही शेष बचा है। किसानों ने नए कृषि कानूनों के विरोध में रेल रोको आंदोलन छेड़ रखा है, जिस कारण रेल सेवाएं बंद है।

इस वजह से पंजाब में अन्य वस्तुओं के साथ-साथ कोयले की सप्लाई भी नहीं हो रही है। कोयले की कमी के कारण श्री गोइंदवाल साहिब के जीवीके थर्मल प्लांट और तलवंडी साबो थर्मल प्लांट ने अपनी एक-एक यूनिट बंद कर दी है। राज्य के तीनों निजी थर्मल प्लांटों के पास अब दो दिन का कोयला शेष बचा है। उन्होंने कहा है कि अगर रेल सेवाएं बंद रहीं तो पंजाब में बिजली संकट गहरा सकता है और ब्लैकआउट हो सकता है।

15 अक्टूबर की बैठक में किसान लेंगे फैसला

वहीं भारतीय किसान यूनियन के प्रधान बूटा सिंह बुर्ज गिल ने कहा कि अभी न तो बिजली की जरूरत है और न ही यूरिया की। सरकार हमें गुमराह न करे। हम जानते हैं कि अक्टूबर में धान की कटाई होनी है और नवंबर में गेहूं की बिजाई शुरू होनी है। इसे देखते हुए 15 अक्टूबर को सभी 30 किसान संगठनों की बैठक बुलाई गई है, जिसमें अगली रणनीति तय की जाएगी। संभव है कि रेल रोको आंदोलन के दौरान मालगाडि़यों को आने-जाने से न रोके जाने पर फैसला ले लिया जाए।

About punjab news live (PNL)

Check Also

पंजाब में 8 नगर निगम और 109 नगर कौंसल के चुनावों का हुआ ऐलान, चुनाव आचार संहिता लागू

चंडीगढ़, (PNL) : राज्य निर्वाचन आयुक्त, पंजाब जगपाल सिंह संधू ने आज यहां 08 नगर …

error: Content is protected !!